Depression- what is depression in hindi

Depression Meaning in Hindi Symptoms

87 / 100

 

Depression- what is depression in hindi
Depression Meaning in Hindi Symptoms
Add caption

Depression Meaning in Hindi Symptoms

    आजकल एक टॉपिक के बारे में बहुत लिखा जा रहा है और वो है डिप्रेसन, अच्छी बात है, लेकिन कहीं हम भूल तो नहीं जायेगें कुछ दिनों बाद, ये याद रखना जरूरी हैI चलिए आज  बात करते हैं डिप्रेसन (Depression) की, जिसमे मरीज व्यावहारिक रूप से क्या सोचता हैI                                             

     जब भी किसी मरीज़ को डिप्रेशन (Depression) होता है,  उसका तीन लोगो से संघर्ष शुरू हो जाता हैपहला अपने आप से , दूसरा परिवार से और तीसरा आस पास के लोगों सेI

  मान लीजिये कोई मरीज है 30 साल का, और उसको कुछ समय से डिप्रेशन के लक्षण रहे हैं, उदासी बनी रहती है, लोगों से बात करने का मन नहीं करता,नकारात्मक विचार (Negative thoughts) आते हैं, ताकत(Energy)  कम रहती है, भूख कम लगती है और ऐसा कई हफ़्तों से या महीनो से होते चला जा रहा हैI
Depression- what is depression in hindi
Depression- what is depression in hindi
 ये सब लक्षण आने से पहले जीवन में शायद कुछ ख़राब घटना घटी होगी,या कुछ नहीं  भी हुआ  हो तो भी बिना किसी कारण के  ये लक्षण    सकते हैं
     तो जब ये    लक्षण  आते हैं,तो उसकी पहली लड़ाई अपने आप से होती है कि, क्या सही में मुझे डिप्रेशन हो गया है या नहींइस बात को स्वीकार करना बहुत मुश्किल होता है कि मुझे कोई बिमारी हो गयी हैI
   और इस बात को स्वीकारना कि, मुझे कोई मानसिक बिमारी हो गयी है, ये तो और भी मुश्किल रहता हैI
    सबसे बड़ी बात जो सामने आती है कि, जब लोगों को लगता है की उन्हें डिप्रेशन हो गया है,तो उसका मतलब है वो कमजोर हैंI वो अपने आप से लड़ने लगते है की मुझे डिप्रेशन तो हो  ही नहीं सकता, मै इतना कमजोर नहीं हूँ की छोटीमोटी जीवन की दिक्कतों से मुझे परेशानी  हो जाये, मै हार नहीं मान सकताI  
    इस प्रकार के विचार की वजह से इस बात को स्वीकार करने में ही महीनों लग जाते है कि, उन्हें डिप्रेशन हैI
  लोगों को यह समझना  बहुत जरूरी है कि डिप्रेशन होना   और  सामान्य कमजोरी होना, दोनों अलगअलग चीजें हैंI
   ऐसा नहीं है की इन्सान  के तौर पर  आप बहुत कमजोर हैI ऐसा सिर्फ मन में बना रहता है और कुछ नहीं हैI
Depression- what is depression in hindi
Depression- what is depression in hindi
 इस बात को मन से निकालना  बहुत जरूरी है की सिर्फ  शारीरिक   रूप से कमजोर लोगों को ही  डिप्रेशन होता  है और जो लोग  बहुत मजबूत कद काठी के होते हैं उन्हें  नहीं हो सकताI    
 अब शरू होता है दूसरे प्रकार  का संघर्ष,यह होता है परिवार वालो के साथI जब एक इन्सान जिसको कुछ दिक्कत होती है और वो  ये मानने  लगता है कि उसे कोई परेशानी  है, तो   वो शेयर करता है अपनी दिक्कतों को अपने  परिवार वालों के  साथ, या किसी प्रिय दोस्त के साथ
  दुर्भाग्य से ज्यादातर मामलों में परिवार वाले भी  मरीज़ को बोलते है की तुम्हे कुछ नहीं हुआ है, मान लीजिये किसी ने बोला डिप्रेशन हुआ है,  तो परिवार वाले बोलते हैं कि, डिप्रेशनविप्रेसन  वगैरह कुछ नहीं होता, खुश रहा करो, अपने दिमाग को शांत कर लो, अपने दिमाग में नेगेटिव थॉट्स मत आने दो या तुम ज्यादा ही सोच रहे हो और ऐसी बाते बोलकर वो जो मरीज़ था, मदद की  उम्मीद कर रहा था, उसको चुप करा दिया जाता हैI 
Depression- what is depression in hindi
Depression- what is depression in hindi
 डिप्रेशन के मरीज को ये बोलना की,  नकारात्मक विचार मत आने दो और खुश रहा करो, वैसा ही है जैसे आप किसी मरीज़ को बोलो की, अगर तुमको  बुखार है तो बुखार  वगैरह कोई चीज नहीं होती, तापमान (Temperature) कम हो जायेगा, तो अपने आप तुम ठीक हो जाओगेI लेकिन हम और आप अच्छी तरह से जानते हैं कि ऐसा नहीं होता, हम मरीज़ का नियम से पूरा इलाज करातें हैंI
  ठीक उसी तरह डिप्रेशन के पेशेंट को ये बोलना की  डिप्रेसन/ विप्रेसन  कुछ नहीं होता, ये मन की बाते हैं इत्यादि, ऐसा कहने से डिप्रेशन ख़तम नहीं हो जायेगाI उसका पूरा इलाज करना होगाI
·      तो ये दूसरा स्तर  है जहाँ परिवार वाले समझ नहीं पाते,  एक तरह से मरीज के बात को को नज़रंदाज़ कर देते हैं, वो प्रॉब्लम को कुछ महीनों बढ़ा देते हैंI अब तक मरीज को   शक होने लगता है कि शायद मुझे कुछ नहीं हुआ है, मै कुछ  ज्यादा ही सोच रहा हूँ और वो इस बात को वही रोक देता है और इलाज़  के लिए नहीं जा पाताI
   अब एक वजह और आती है, दुर्भाग्य से ये वजह होती है  डॉक्टर की वजह सेI
Depression- what is depression in hindi
Depression- what is depression in hindi
  शुरुवात में मरीज़ सबसे पहले जाते हैं जनरल फिजिशियन या  जनरल डॉक्टर के पासI मनोचिकित्सक (साइकेट्रिस्ट) और मनोवैज्ञानिक (साइकोलोजिस्ट)  के पास तो  लोग बहुत बाद में जाते हैंI
      कई बार  दुर्भाग्य से फिजिशियन को भी डिप्रेशन की गहरी समझ नहीं होती और वो भी यही बोल देते हैं कि, ऐसा कुछ नहीं है, तुम्हे कोई बिमारी नहीं है, बस दौड़ लगाया करो, खुश रहा करो या ज्यादा सोचा मत करो, तो मरीज़ को भी लगता है की अब तो डॉक्टर ने भी मना कर दिया है तो फिर कुछ नहीं ही होगाI

   अब समस्या  ये है की जो ये तीन मुख्य कारण हैं, जिसकी वजह से समस्या जस की तस वही रहती है, आगे के लिए उसका समाधान भी  नहीं मिल पाताI

  हमने देखा है कि जब तक मरीज़ मनोचिकित्सक (साइकेट्रिस्ट) या मनोवैज्ञानिक (साइकोलोजिस्ट )  के पास आते हैं,  है तब तक वो काफी सारा समय बर्बाद कर चुके होते हैंI 
 जो समस्या बहुत आसानी से बहुत पहले ठीक हो जानी चाहिए थी,  वो गंभीर(एडवांस्ड स्टेज) पे चुकी होती हैI
  अब देखिये,  मुझे ये बात अच्छी तरह से  पता है कि, परिवार के सदस्य मरीज़ के लिए अच्छा ही सोचते हैं, पर वो डरते हैं कि, डिप्रेसन हो गया है, कोई मानसिक बिमारी हो गयी है, दुनिया क्या बोलेगी , समाज क्या बोलेगा, उसी चक्कर में इसे दबाने का भी प्रयास करते हैंI

   लेकिन इस बात को समझिये, कि  अगर किसी व्यक्ति को डिप्रेशन होता है, और बढ़ जाता है, उसका दुष्प्रभाव दिखने लगता है तो कोई भी समाज का व्यक्ति, कोई भी पड़ोसी या रिश्तेदार उसको बचाने के लिए नहीं आने वाला है, उसको अपनी जिंदगी खुद ही काटने पड़ेगी, अपनी लड़ाई स्वयं ही लड़नी पड़ेगीI

   जो लोग आपके बुरे समय में आप का साथ नहीं देने वाले, उनकी वजह से  आप अपने इलाज को मत रोकियेI
Depression- what is depression in hindi
                                                       Depression- what is depression in hindi

     आखिर में बस यही कहना चाहूँगा कि,ऐसा कुछ भी लक्षण  अगर आप में,या परिवार के किसी सदस्य में, या किसी दोस्त में मिलता है,  तो आप जिस भी शहर में रहते हैं,  उस शहर के मनोचिकित्सक (साइकेट्रिस्ट) या किसी  मनोवैज्ञानिक (क्लिनिकल साइकोलोजिस्ट) से जरूर मिलिए और अपना इलाज शुरू कीजियेI 

Depression- what is depression in hindi
Depression- what is depression in hindi

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!