नशे की लत: Addiction भविष्य अँधेरे में? What do you know? hindi me

80 / 100

              नशे की लत (Addiction):भविष्य अँधेरे में?

  • पूरी दुनिया में तेजी से फैलते नशें और उससे बढ़ते अपराध को देखते हुए हर साल 26 जून को, अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस मनाया जाता हैI इस दिन नशीली दवाओं के दुरुपयोग, होने वाले नुकसान और इन दवाओं के अवैध व्यापार के प्रति लोगों को जागरूक किया जाता हैI
  • पूरे विश्व में इस दिन विभिन्न समुदाय और संगठन, नशीली दवाओं के बारे में लोगों को बताने के लिए ,तमाम तरह के कार्यक्रम आयोजित करते हैंI

                                            

  • नशा यानि ड्रग्स (Addiction) एक ऐसी नशीली चीज होती है जिसकी लत एक बार लग जाये तो आदमी उसमे धंसता ही चल जाता है और डूब जाता हैI
  • यह एक ऐसी भयानक वस्तु है, जो महँगी होने के साथ-साथ, समाज में आदमी की इज्ज़त भी कम  करती हैI
  • यह वो खर्चीली चीज है जिससे मनुष्य का शरीर तो कमजोर होता ही है, साथ ही परिवार, धन और संपत्ति आदि का भी नुकसान होता हैI समाज एक ड्रग एडिक्ट को अच्छी नज़र से नहीं देखता हैI
  • छोटी उम्र के बच्चों में भी नशे की लत (addiction) देखी जा सकती हैI दिन-प्रतिदिन यह बढ़ती ही जा रही हैI बच्चे इस बारे में जागरूक नहीं होते हैंI 
  • उनको इस बारे में जानकारी ही नहीं होती कि, यह अच्छी आदत है या बुरी आदतI अगर उनको नशे की लत लग जाती है तो वो इसमें फंसते चले जाते हैंI
  •  ये समस्या देश में ही नहीं पूरे विश्व में फैलती जा रही हैI नशे को लोग कई रूपों में इस्तेमाल करतें हैंI पुराने समय में बीड़ी, तम्बाकू, गुटका, मुनक्का आदि का उपयोग होता थाI
  • आज- कल  के समय में नशीली चीजों ने भी अपना रूप बदल लिया हैI ये सब आज -कल स्मैक, हेरोइन,अफीम,कोकीन आदि के रूप में आसानी से मिल जाता है I
  • इन नशीली चीजों के लेने के तरीके भी बदल गए हैंI कैप्सूल,इंजेक्शन, गोली, पाउडर,वेपर आदि  के माध्यम से भी ये शरीर में पहुँचने लगा हैI
  • नशे से पीड़ित व्यक्ति सिर्फ शारीरिक रूप से  नहीं , बल्कि  मानसिक रूप से भी कमजोर हो जाता है, उसे बिना बात के गुस्सा आने लगता हैI हर किसी से, परिवार में,नौकरी में, बिज़नेस में हर जगह लड़ाई- झगड़ा शुरू कर देता हैI
  • व्यक्ति अगर नशे का आदि हो जाये तो उसके परिवार को बहुत कुछ सहन करना पड़ता है,पारिवारिक समस्याएँ अपने आप बढ़ती चली जाती हैंI
 
 
 
  •  ड्रग एडिक्ट को जब नशे की तलब लगती तो वह, कुछ भी करने के लिए तैयार हो जाता हैI ड्रग बहुत मंहगी होती है, इसलिए व्यक्ति का पैसा, रूपया भी तेजी से कम होने लगता हैI
  • बहुत सारे ऐसे लोग हैं, जो पहले बहुत धनी हुआ करते थे, परन्तु ड्रग्स की आदत ने उन्हें सड़क पर ला दिया हैI वे भिखारियों की तरह सड़क पर नज़र आते हैंI
  • एक व्यक्ति के ड्रग एडिक्ट बनने से उसका पूरा परिवार तो खत्म होता ही है , साथ ही पूरे देश एवं विश्व की भी हानि होती है, क्योंकि पूरा एक  परिवार, देश एवं विश्व, हम सभी लोगों से मिलकर बना हैI
  • नशे का लती  (drug addict), बनने का सबसे मुख्य कारण है, अपने बनाये गए लक्ष्य (टारगेट) का पूरा ना होना हैI
  • जब भी कोई व्यक्ति अपने जीवन में कोई बड़ा टारगेट या किसी चीज को पाना चाहता है, और वो जब उसे नहीं मिल पाता, तो वो झुंझला (Frustrate) जाता हैI अपने फ्रस्ट्रेसन को कम करने के लिए वो कोई न कोई तरीका खोजता हैI
  • अब जो तरीका उसके सामने आ गया, फिर वो उसी का आदि हो जाता है, अब वो तरीका चाहे ड्रग्स ही क्यों नं होI
  • इसलिए, अगर उसने एक बार नशा ले लिया तो दोबारा वो यही सोचता है कि,अगर मै फिर से ड्रग्स ले  लूं, तो मुझे थोड़ा सा रिलैक्स  मिलेगाI लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं होता, आगे चलकर, वही आदमी की आदत बन जाती हैI
  • वो इस नशे को हमेशा के लिए लेने लग जाता है , फिर इस ड्रग का गुलाम हो जाता है I आप तो जानते ही हैं कि, अगर कोई आदमी किसी चीज का गुलाम या आदि हो जाये तो उसके लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता हैI उसका अपने-आप पर नियंत्रण नहीं रह जाता,फिर वो चाहे घर की चैन हो, अँगूठी हो या घर का कोई सामान ही बेचना पड़े, वो सब कुछ बेचकर, नशा खरीदकर घर लाता हैI
    addiction

    आदमी का सामाजिक दायरा भी कम होने लगता है,सामाजिक कार्यक्रमों में भी वो भाग नहीं ले पाताI बढ़े हुए खर्च एवं आमदनी का कोई जरिया नहीं होने की वजह से उस पर कर्ज बढ़ने लगता हैI

  • पैसे के कमी की वजह से , वो आपराधिक कामों में भी लग जाता है, गैर कानूनी  कम भी करने लग जाता है, जिससे उसको कानूनी कार्यवाही का भी सामना कर पड़ सकता हैI
  • विश्व के सभी देशों की सरकारों ने नशे (Addiction) की रोकथाम के लिए, हर तरीके के विभाग बनायें हैं, जागरूकता अभियान चलाये जा रहे हैंI
  •  इन सभी का प्रयास प्रशंसनीय हैI लेकिन यह समस्या दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है, इसलिए हमें और प्रयास करने होंगेI लोगों को शामिल करना पड़ेगा, वैसे बहुत सारे N.G.O. भी सारे  दुनिया  में इस कम में जी-जान से लगे हुए हैंI

                                                         

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!